मकरस्थ शनि मार्गी का प्रभाव : कोरोना से राहत व देश में बड़े बदलाव का योग

0
(0)

बीकानेर। ज्योतिषाचार्य पंडित गिरवर प्रसाद बिस्सा के अनुसार शनि 29 सितम्बर 2020 मंगलवार को रात्रि 10 बजकर 43 मिनट अपनी वक्र चाल को छोड़कर मार्गी हुआ । विश्व व्यापी कोरोना महामारी से राहत का योग परन्तु इससे मुक्त होने में 30 नवम्बर तक इंतजार करना पड़ेगा ।

🌚 शनि सूर्य नक्षत्र का है परस्पर दोनो शत्रु स्वभाव के होने के कारण मकर का शनि ज्यादा शुभ फलदायी नही रहेगा ।
🌚 भारत के लिए अमंगलकारी ,सामाजिक धार्मिक एवं कृषि क्षेत्र में व्यापक उठापटक का योग बन रहा है । बुद्धिजीवियों एवं विज्ञानिको की लिए यह समय आश्चर्यजनक सफलता का कारक है । खेलो के क्षेत्र में उपलब्धियां हासिल होगी । किसी महान खिलाड़ी के साथ बड़ा हादसा होगा जो दुखदायी होगा ।
🌚 राजनीति के क्षेत्र में उठापटक तथा शीर्ष नेताओं की क्षति का योग । राजनीतिक बयानबाजी से राजनीति की गरिमा घटेगी । न्यायालय के फैसले अद्बुद्ध परन्तु देश हित मे नही होंगे । विदेशनीति में आश्चर्य जनक परिवर्तन होंगे ।
🌚 आर्थिक मंदी से उबरने के लिए सार्थक प्रयास सरकार द्वारा किये जायेंगे जो नाकाफी सिद्ध होंगे ।
🌚 पड़ोसी देशों की कुचलो पर विजय मिलेगी । मौसम के बदमिजाज के कारण फसलों को नुकसान होगा । आमजन को परेशानी होगी । आगजनी,भूकंप तथा अन्य दुर्घटनाओं के कारण परेशानियों का दौर चलेगा। बाजार में तेजी की चाल विशेषकर तेल तिलहन सोना चांदी तथा क्रूड ऑयल पेट्रोल डीजल के दामो में भारी वृद्धि होगी ।

इन राशि वालों पर असर इस प्रकार है –

मेष – राजपक्ष से लाभ, धन प्राप्ति में रुकावट,पिता को लाभ शुभ और अशुभ दोनो फल मिलेंगे ,यात्रा योग प्रबल खर्च भी होगा ।

वृष- राजयोग प्रबल,धन लाभ,सन्तान की उन्नति, घर मे मंगलकार्य होंगे यश मिलेगा ।

मिथुन शनि का ढैय्या ओर लोहे का पाया है , इसलिए शारीरिक पीड़ा, कुटुम्ब में आकस्मिक दुर्घटनाओं का योग आर्थिक नुकसान होगा , यात्रा योग प्रबल ।

कर्क – यश अपयश का योग ,अनायास धन लाभ, घर मे आकस्मिक दुर्घटनाओ का योग , स्त्री पक्ष की चिंता ,खर्च अधिक

सिंह – धन लाभ,रोग शत्रुओ का जोर, मुकदमेबाजी में विजय, ससुराल पक्ष की चिंता, सन्तान की उन्नति , माता को कष्ट।

कन्या – आर्थिक उठापटक रहेगी,व्यवसाय की चिंता ,पिता को लाभ,किसी मुकदमे में हार मिलेगी,यात्रा योग ,स्वास्थ्य पीड़ा होगी ।

तुला शनि की ढैय्या व लोहे का पाया है , इसलिए मानसिक ,शारीरिक पीड़ा को योग ,धन हानि ,बेकार के विवाद से परेशानी,मांगलिक कार्यो में बाधाएं,परिवार में अशान्ति ,प्रबल कर्ज योग है।

वृश्चिक – जमीन सवारी का लाभ , स्थान परिवर्तन का योग ,मानसिक तनाव,धन लाभ,पारिवारिक समस्याएं होगी।

धन – शनि की धन शनि की साढ़ेसाती चांदी के पाए में चालू होगी सो धन प्राप्ति कठिनता से होगी,पारिवारिक समस्याओं का निदान निकलेगा ,स्वास्थ्य पीड़ा ,यात्रा में नुकसान

मकर – शनि की साढे सती सोने के पाए में चालू होगी स्वास्थ्य पीड़ा, आय के साधन बनेंगे, सन्तान की उन्नति,अनावश्यक खर्च यह समय शुभ – अशुभ दोनो फल देगा।

कुम्भ- शनि की साढ़े सती लोह के पाए में है परिवार में दुर्घनाओं का योग,खर्च अधिक,कार्य क्षेत्र में मुश्किलें होगी, घर वाहन का योग ,सन्तान की उन्नति होगी ।

मीन – धन लाभ ,जमीन का सुख मिलेगा, सन्तान पक्ष की चिंता,कार्य क्षेत्र में तकरार का योग, पत्नी पीड़ा,स्वास्थ्य पीड़ा का योग ।

पंडित गिरवर प्रसाद बिस्सा
9413481194

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply