Screenshot 20220715 130858 WhatsApp

प्रौद्योगिकी ने तय किया आरंभिक संचार प्रणालियों से लेकर 5 जी एवं 6 जी तक का सफर

4
(2)

विश्‍व युवा कौशल दिवस पर विद्यार्थियों का सीरी भ्रमण

डॉ अयन बंद्योपाध्‍याय ने वैश्‍विक संचार प्रणालियों की यात्रा पर दिया व्‍याख्‍यान

पिलानी, 15 जुलाई। सीएसआईआर – केंद्रीय इलेक्‍ट्रॉनिकी अभियांत्रिकी अनुसंधान संस्‍थान (सीरी), पिᚴलानी में विश्‍व युवा कौशल दिवस मनाया गया। अपने सामाजिक उत्‍तरदायित्‍व का निर्वहन करते हुए देशभर में फैली सीएसआईआर की राष्‍ट्रीय अनुसंधान प्रयोगशालाएँ विभिन्‍न अवसरों पर स्‍कूल एवं कॉलेजों के विद्यार्थियों को शोध प्रयोगशालाओं को देखने व समझने का अवसर देने के साथ-साथ वैज्ञानिकों से संवाद का अवसर भी प्रदान करती हैं। इसी क्रम में सीरी विद्या मंदिर के 65 विद्यार्थियों ने पिलानी स्थित सीएसआईआर – सीरी का शैक्षणिक भ्रमण किया। विश्‍व युवा कौशल दिवस पर संस्‍थान में आयोजित कार्यक्रम का शुभारंभ करते हुए मुख्‍य वैज्ञानिक डॉ अभिजीत कर्माकर ने सभी छात्र-छात्राओं एवं उनके शिक्षकों का स्‍वागत करते हुए उन्‍हें इस दिवस की पृष्‍ठभूमि से अवगत कराया।

इसके बाद कार्यक्रम का संचालन करते हुए डॉ विजय चटर्जी, वरिष्‍ठ वैज्ञानिक ने सभी विद्यार्थियों को विश्‍व युवा कौशल दिवस की बधाई दी और कार्यक्रम की रूपरेखा से अवगत कराया। मीडिया को जानकारी देते हुए प्रधान वैज्ञानिक श्री प्रमोद कुमार तंवर ने बताया कि भारत सरकार द्वारा वर्ष 2018 में अटल इनोवेशन मिशन की शुरुआत की गई थी। इसी मिशन के तहत शुरू की गई अटल टिंकरिंग लैब्‍स योजना के माध्‍यम से स्‍कूली विद्यार्थियों में वैज्ञानिक अभिरुचि का विकास करने के लिए हमारा संस्‍थान इस प्रकार के आयोजन नियमित रूप से करता है।

इस अवसर पर डॉ अयन कुमार बंद्योपाध्‍याय, वरिष्‍ठ प्रधान वैज्ञानिक ने ‘द जर्नी ऑफ कम्‍युनिकेशन सिस्‍टम्‍स’ विषय पर दिए गए अपने रोचक व्‍याख्‍यान में संचार प्रणालियों की यात्रा पर प्रकाश डालते हुए छात्रों को विश्‍व में आरंभिक संचार प्रणालियों एवं विधियों से लेकर वर्तमान में 5जी एवं 6जी प्रौद्योगिकी की जानकारी दी। उन्‍होंने विद्यार्थियों से कहा कि विश्‍व प्रौद्योगिकीय बदलावों से गुजर रहा है और संचार व्‍यवस्‍था भी इससे अछू‍ती नहीं है। उन्‍होंने छात्र-छात्राओं को वैश्‍विक संचार व्‍यवस्‍था में होने वाले संभावित बदलावों की भी जानकारी दी। प्रस्‍तुतीकरण के उपरांत विद्यार्थियों ने पूछे गए प्रश्‍नों का उत्‍तर दे कर अपनी सक्रिय प्रतिभागिता का परिचय दिया।

युवा कौशल दिवस के अवसर पर छात्र-छात्राओं ने संस्‍थान की प्‍लाज़्मा प्रयोगशाला और विज्ञान संग्रहालय का भी परिदर्शन किया। विद्यार्थियों को प्‍लाज़्मा प्रयोगशाला में संस्‍थान की वर्तमान एवं अन्‍य शोध गतिविधियों के बारे में बताया गया। इस शैक्षणिक भ्रमण-सह-संपर्क कार्यक्रम के दौरान विद्यार्थियों को सीएसआईआर के गठन के उद्देश्‍यों से भी अवगत कराया गया। उन्‍हें सीएसआईआर-सीरी की ऐतिहासिक पृष्‍ठभूमि, उपलब्धियों एवं शोध गतिविधियों का परिचय देने के उद्देश्‍य से तैयार की गई डॉक्‍युमेन्‍ट्री फिल्‍म दिखाई गई। इसके बाद उन्‍हें संस्‍थान की प्‍लाज़्मा प्रयोगशाला के साथ-साथ सूक्ष्‍मतरंग नलिका प्रयोगशाला की शोध सुविधाओं का भ्रमण कराया गया।

संस्‍थान के विज्ञान संग्रहालय में संस्‍थान के वैज्ञानिकों ने विद्यार्थियों को सेमिकंडक्‍टर, माइक्रोवेव और इलेक्‍ट्रॉनिक प्रणालियों के वैज्ञानिक पोस्‍टरों और संबंधित शोध क्षेत्रों के वैज्ञानिकों द्वारा विकसित शोध-उत्‍पादों के बारे में जानकारी दी। विद्यार्थियों एवं उनके साथ उपस्थित अध्‍यापकों ने यह अवसर उपलब्‍ध कराने के लिए प्रधानाचार्या श्रीमती राचल दयाल की ओर से संस्‍थान के निदेशक डॉ पी सी पंचारिया के प्रति आभार व्‍यक्‍त किया।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 4 / 5. Vote count: 2

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply