कोविड-19 का विकिरणों द्वारा उपचार, 12 को डूंगर काॅलेज में विकिरण विषयक अन्तरराष्ट्रीय वेबिनार में होंगे व्याख्यान, उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी करेंगे शुभारंभ

0
(0)

बीकानेर 5 अक्टूबर। सम्भाग के सबसे बड़े राजकीय डूंगर महाविद्यालय के प्राणीशास्त्र विभाग एवं इण्डियन सोयायटी फाॅर रेडियेशन बायोलाॅजी के संयुक्त तत्वावधान में 12 अक्टूबर को एक अन्तर्राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया जायेगा। प्राचार्य डाॅ. शिशिर शर्मा ने बताया कि इस वेबिनार के उद्घाटन समारोह के मुख्य अतिथि उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी होंगे। उन्होंने कहा कि वेबिनार में कोविड-19 का विकिरणों द्वारा उपचार विषय पर देश विदेश के ख्यातनाम वैज्ञानिक अपना व्याख्यान देंगे। डाॅ. शर्मा ने बताया कि वेबिनार में रक्षा अनुसंधान संस्थान हलद्वानी की निदेशक डॉ. मधु बाला, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान नई दिल्ली के डाॅ. डी.एन.शर्मा, सवाई मानसिंह अस्पताल जयपुर के डाॅ. अरूण चोगले तथा अमेरिका के फ्लोरिडा के डाॅ. सुनील कृष्णनन सहित देश के जाने माने रक्षा वैज्ञानिक विकिरणों से कोरोना का बचाव विषय पर विस्तृत जानकारी प्रस्तुत करेंगेे।
वेबिनार के संयोजक डाॅ. राजेन्द्र पुरोहित ने बताया कि वर्तमान कोरोना काल में विकिरण वैज्ञानिक भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। डाॅ. पुरोहित ने कहा कि इस प्रकार के वेबिनार से विकिरणों से कोरोना के उपचार संबंधी महत्वपूर्ण जानकारी उपलब्ध हो सकेगी।

उन्होंने कहा कि वेबिनार के ब्रोशर का लोकार्पण सोमवार को प्राचार्य कक्ष में प्राचार्य डाॅ. शिशिर शर्मा, सहायक निदेशक डाॅ. राकेश हर्ष, आयोजन सचिव डाॅ. अरूणा चक्रवर्ती, प्रशासनिक मण्डल के सदस्यों तथा आयोजन समिति के सदस्यों की उपस्थिति में किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में अपने उद्बोधन में तीसरी एवं दसवीं बटालियन आरएसी के कमाण्डेन्ट आईपीएस देवेन्द्र विश्नोई ने महाविद्यालय परिवार को वेबिनार के सफल आयोजन की शुभकामनाएं प्रेषित कीं।
वेबिनार की अध्यक्ष डाॅ. मीरा श्रीवास्तव ने बताया कि पूर्व में 12 से 14 अक्टुबर को विकिरण जैविकी पर अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन किया जाना प्रस्तावित था जिसकी समस्त तैयारियां भी सम्पन्न कर ली गयी थी, लेकिन कोरोना काल के मद्देनजर सम्मेलन को स्थगित कर दिया गया था। डाॅ. श्रीवास्तव ने कहा कि इस प्रकार के वेबिनार से संकाय सदस्यों एवं शोधार्थियों को विकिरणों से कोराना संबंधी जानकारी हेतु विश्व वैज्ञानिकों से रूबरू होने में मदद मिलेगी।
आयोजन सचिव डाॅ. अरूणा चक्रवर्ती ने बताया कि इस वेबिनार में 500 से भी अधिक वैज्ञानिकों एवं शोधार्थियों की सहभागिता सम्भावित है। डाॅ. चक्रवर्ती ने आयोजन समिति के समस्त सदस्यों से इस आयोजन को सफल बनाने हेतु हर सम्भव सहयोग की अपील की।

img 20201005 wa00131558609992461895498

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply