TID-Logo

रियल एस्टेट में अभी नहीं है निवेश का बाजार There is no investment market in real estate

5
(1)

बीकानेर। कोरोना वायरस के चलते रियल एस्टेट कारोबार भी बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। हालात यह है कि निवेशक इस ओर आंख उठा कर भी नहीं देख रहा है। कारोबारियों के अनुसार अभी वही कस्टमर आ रहा है जिसे आवास की जरूरत है। इसमें अच्छी रूचि दिखा रहे हैं, लेकिन अभी जमीनों के सौदे नहीं हो रहे हैं। ग्राहक के इस नजरिए के चलते बिल्डर्स भी नए प्रोजेक्ट्स में रूचि नहीं ले रहे हैं और पुराने प्रोजेक्ट्स को ही पूरा करने में जुटे हैं। कारोबारियों के अनुसार नोखा रोड पर पट्टेशुुदा जमीनों के भाव सर्वाधिक है। इसकी वजह उन्होंने यह बताई कि गंगाशहर में जमीनें कम है और प्रोजेक्ट भी कम है। किसमीदेसर इलाके में कुछ जमीने जरूर है। कोई सस्ते में जाना चाहे तो जैसलमेर रोड पर बिना पट्टे की 50 से ₹100 स्क्वेयर फुट जमीन मिल जाएगी और वहीं नोखा रोड में बिना पट्टे के 200 से ढाई सौ स्क्वायर फुट तक उपलब्ध हो सकती है। कारोबारियों ने रियल एस्टेट बाजार को सामान्य स्थिति में आने में एक से डेढ़ साल लगने की उम्मीद जताई है।

ये हैं पट्टेशुदा जमीनों के भाव (₹/वर्ग फुट)

जयपुर रोड     800 से 1400 

जैसलमेर रोड  200 से  250

नोखा रोड       2000

इनका कहना है-
जो प्रोजेक्ट पहले से पास करवाएं हैं उसी पर काम चल रहा है। अभी एंड यूजर का मार्केट है। अभी इन्वेस्टमेंट का मार्केट नहीं आया है। इसमें अभी समय लगेगा, लेकिन एक दो माह में प्रोजेक्ट ले आएंगे।
– मानसिंह नरूका, डायरेक्टर, शिवम डवलपर्स प्रा.लि.

बीकानेर के रियल एस्टेट मार्केट में कुछ सुधार हो रहा है। लाॅकडाउन में सब काम बंद था। लाॅकडाउन से पहले गतिविधि शुरू हुई थी कि अचानक यह लाॅकडाउन आ गया । बीकानेर में अक्टूबर में कोरोना पीक पर था और दीपावली के बाद उतार पर आया तब दिसम्बर में गतिविधि तेज हो गई अभी मलमास चला तभी लोगों ने मल को कोई विशेष नहीं लिया। बिजनेस ठीक से हो रहा है। जमीनों में कुछ खास नहीं है अभी तो बने हुए मकानों में लोगों की रुचि हैं । जब यह बिकेंगे तब हम जमीन खरीदेंगे। जरूरत वाला मकान खरीद रहा है। इन्वेस्टमेंट का तो अभी कोई मैटर भी नहीं है। लाॅकडाउन में लेबर को मजदूरी पूरी दी, खाना भी फ्री दिया। जैसे ही लाॅकडाउन खत्म हुआ मजदूर चले गए, लेकिन अब वापस आ चुके हैं।
– विनोद बोथरा, डायरेक्टर, देवभूमि विनमेय प्रा.लि.

रियल एस्टेट में अभी बाजार नहीं है और रिकवरी का भी कुछ नहीं कह सकते। कस्टमर क्वेरी तो कर रहा है लेकिन खरीद नहीं कर रहा है। अभी नया कोई प्रोजेक्ट नहीं चल रहा। पुराने प्रोजेक्ट को ही चला रहे हैं। इसमें अभी डवलपमेंट का काम चल रहा है। नये प्रोजेक्ट की अभी कोई उम्मीद भी नहीं है।
– सीताराम भाम्भू, डायरेक्टर, एसकेएल ग्रुप

लाॅकडाउन में रियल एस्टेट मार्केट जीरो रहा, लेकिन वर्तमान में ठीक ठीका है ऑन एवरेज है। अभी नया प्रोजेक्ट कोई भी नहीं चल रहा। प्रोजेक्ट लाइक मार्केट भी नहीं खुला है। पुराने 2-3 प्रोजेक्ट चल रहे हैं। बीकानेर में मार्केट पहले से कम हुआ है अभी जिसकी वास्तविक जरूरत है वह डील होती है रिक्वायरमेंट में फर्क यह पड़ गया कि प्राइवेट एम्पलाॅई की स्थिति बिल्कुल खराब है। प्राइवेट वाले की ना तो लाॅनिंग होती है और ना ही जॉब की सिक्योरिटी रही। यह बेसिक प्रॉब्लम है। अभी एवरेज गाड़ी चल रही है। इस सेगमेंट में कोई बहुत बड़ा बदलाव नहीं हुआ कि एकदम से मार्केट बूम कर गया हो, लेकिन बदलाव शुरू हो रहा है। इसमें नॉर्मल स्थिति आने में साल डेढ़ साल लगेगा । लेबर यहीं हैं, दस साल से काम कर रहें तो उन्हें कहां भेजेंगे।
– जी एस राठौड़, डायरेक्टर, विजय शाॅपिंग माॅल

#investment #market #realestate

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 5 / 5. Vote count: 1

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply