लाॅकडाउन से जारी है राम रसोड़े के सेवा का सफर, अब तक बांट चुके हैं 4.5 लाख भोजन पैकेट The journey of service of Ram Rasora continues from lockdown, 4.5 lakh food packets have been distributed so far

0
(0)

बीकानेर। लॉकडाउन में भाजपा द्वारा असहाय,गरीब और मजदूरों की सहायता के लिए बनाया गया राम रसोड़ा लगातार विभिन्न सामाजिक सरोकार को निभाता आ रहा है।

फिर चाहे वह करनी माता मंदिर का जीर्णोद्धार हो, कल्याण श्मशान भूमि में आने वालों की सुविधाओं के लिए हाल निर्माण करवाना हो या गौशाला में गायों की सुरक्षा हेतु टीन शेड का निर्माण करवाना हो राम-रसोड़ा हमेशा से अग्रसर रहा है। राम रसोड़ा के प्रबंधक शिवरतन अग्रवाल ने बताया की केंद्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल के सहयोग से और क्षमाराम महाराज की प्रेरणा,ओर भामाशाहों के सहयोग से लाॅकडाउन के दौरान राम रसोड़ा को प्रारंभ किया गया था
तब से अब तक 70 लाख से अधिक रुपयों का विभिन्न सामाजिक सरोकार के कार्य राम रसोड़ा लगातार कर रहा है। लॉकडाउन में जहां गरीबों को सुबह-शाम का भोजन (आज तक 4.5 लाख पेकेट) उपलब्ध कराया गया और वह आज भी जारी है। वहीं सैकड़ों मंदिरों में राशन किट उपलब्ध कराने के साथ साथ हजारों सूखे राशन किट वितरण किये गए। उसके बाद पोस्ट कोविड-19 अस्पताल की बिजली फिटिंग करवाकर 100 से अधिक वाल फ़ेन ,सिलिन्ग फ़ेन, एग्जाॅस्ट फ़ेन, व्हीलचेयर, स्ट्रेचर सहित विभिन्न प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध करवाई। साथ ही गौशाला व अन्य जगहों पर गाय माता के लिये हरा चारा ,सब्जियां खिलाई गई। फिर अनाज मंडी के पीछे स्थित सार्वजनिक समाज श्मशान गृह में ₹51000 की राशि का सहयोग किया गया और गोपेश्वर-खेतेश्वर बस्ती स्थित करणी माता मंदिर का निर्माण करवाया गया। इसमें तीन लाख रुपए से ज्यादा का अनुदान राम रसोड़ा द्वारा दिया गया। आगे भी प्रत्येक सामाजिक सरोकार के कार्य में राम रसोड़ा सहयोग करता रहेगा । इसमें मुख्य रूप से शिवरतन अग्रवाल, सत्यप्रकाश आचार्य, अखिलेश प्रताप सिंह, मोहन सुराना,एडवोकेट अशोक प्रजापत ,अरुण जैन, गोपाल अग्रवाल आदि लोग सक्रिय रूप से अपनी सेवाएं देते है।

#lockdown #food packet #social services

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply