अब घर बैठे देख सकेंगे ‘म्यूजियम’, ‘ई-नर्सरी’ से मिलेगी पेड़-पौधों से जुड़ी जानकारी

0
(0)

एसकेआरएयूः कुलपति की पहल

बीकानेर, 3 सितम्बर। स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय का म्यूजियम जल्दी ही घर बैठे देखा जा सकेगा। साथ ही यह भी जाना जा सकेगा कि विश्वविद्यालय की नर्सरी में कौन-कौनसे पौधे हैं तथा इन्हें लगाने का उचित समय कौनसा है। यह संभव हो सकेगा ‘ई-म्यूजियम’ एवं ‘ई-नर्सरी’ की बदौलत। विश्वविद्यालय जल्दी ही दोनों इकाईयों के ई-प्रारूप विकसित करेगा।
कुलपति प्रो. आर. पी. सिंह ने गुरुवार को विश्वविद्यालय की विभिन्न इकाईयों के औचक निरीक्षण के दौरान यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि राज्यपाल एवं कुलाधिपति कलराज मिश्र ने गत वर्ष विश्वविद्यालय के स्वामी विवेकानंद कृषि संग्रहालय का उद्घाटन किया। इसके बाद अब तक गुजरात, तमिलनाडू, केरल, मध्यप्रदेश, हरियाणा सहित विभिन्न प्रांतों और राजस्थान के कई जिलों के प्रतिनिधि इसका अवलोकन कर चुके हैं। अन्य क्षेत्रों के लोग भी घर बैठे इसे देख सके, इसके मद्देनजर ई-म्यूजियम के कांसेप्ट को अमली जामा पहनाया जाएगा। उन्होंने बताया कि ई-म्यूजियम के माध्यम से इंटरनेट यूजर को यहां प्रदर्शित सामग्री, अवलोकन का समय, प्रभारी के दूरभाष नंबर सहित समूची जानकारी हो पाएगी। इसी प्रकार ‘ई-नर्सरी’ से नर्सरी में उपलब्ध विभिन्न पेड़-पौधों की किस्मों एवं दर, इनकी खूबियों, पौधे प्राप्त करने एवं लगाने के उचित समय, प्रभारी और इससे जुड़ी पूरी सूचना मिल सकेगी।
इन इकाईयों का किया औचक निरीक्षण
कुलपति ने वित्त नियंत्रक कार्यालय, अनुसंधान निदेशालय, प्रसार शिक्षा निदेशालय, कृषि तकनीकी सूचना केन्द्र, स्वामी विवेकानंद कृषि संग्रहालय, गृह विज्ञान महाविद्यालय, कृषि व्यवसाय प्रबंधन संस्थान, मानव संसाधन विकास निदेशालय, प्लानिंग एंड माॅनिटरिंग निदेशालय आदि का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि प्रत्येक इकाई के प्रभारी ‘टीम भावना’ के साथ कार्य करें और बेहतर परिणाम दें। इस दौरान उन्होंने इकाईयों के कार्यों की समीक्षा की।

रैंकिंग सुधार सर्वोच्च प्राथमिकता

कुलपति ने कहा कि विश्वविद्यालय की रैंकिंग में सुधार उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसके लिए गंभीरतापूर्वक कार्य करने की जरूरत है। उन्होंने अनुसंधान परियोजनाओं, जर्क की प्रस्तावित बैठकों और अनुसंधान केन्द्रों की गतिविधियों के बारे में जाना। रोजगारपरक वोकेशनल कोर्स प्रारम्भ करने के निर्देश दिए। राष्ट्रीय पोषण सप्ताह के दौरान किए जा रहे कार्यक्रमों की जानकारी ली। बाजरा के मूल्य संवर्धित उत्पादों को आमजन तक पहुंचाने एवं एंतरप्रेन्योर तैयार करने के निर्देश दिए।

गुसाईसर में कम्प्यूटर साक्षरता कार्यक्रम आयोजित

बीकानेर, 3 सितम्बर। स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय द्वारा गोद लिए गए गुसाईसर गांव में गुरुवार को कम्प्यूटर साक्षरता कार्यक्रम आयोजित किया गया। प्रसार शिक्षा निदेशालय के उपनिदेशक डाॅ. आर. के. वर्मा ने बताया कि राज्यपाल एवं कुलाधिपति श्री कलराज मिश्र के निर्देशानुसार विश्वविद्यालय सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत यह कार्यक्रम आयोजित हुआ। विश्वविद्यालय की कम्प्यूटर अनुप्रयोग इकाई (सिमका) के संयुक्त तत्वावधान् में आयोजित कार्यक्रम के दौरान 22 कृषकों एवं ग्रामीण युवाओं को कम्प्यूटर की उपयोगिता के बारे में बताया गया। इस दौरान प्रायोगिक कार्य भी करवाया गया। कार्यक्रम में कृषि विज्ञान केन्द्र प्रभारी डाॅ. दुर्गा सिंह, सिमका के दुर्गाशंकर, मदन लाल आदि मौजूद रहे।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply