ईसीबी के छात्रों ने विकसित किया ग्रामीणों का डिजिटल मित्र – “सहाय”

0
(0)

बीकानेर। अभियांत्रिकी महाविद्यालय बीकानेर (ईसीबी) के इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग के चतुर्थ वर्ष में अध्यनरत पांच छात्रों ने “सहाय” नामक एक ऑनलाईन मंच विकसित किया है जो ग्रामीण एवं कृषि क्षेत्र से सम्बन्धित लोगों को सरकारी जन कल्याण योजनाओं एव नीतियों का उपयोग करने और उसका लाभ उठाने में मदद करता है । टीम सहाय के प्रस्ताव, अवधारणा का प्रमाण (पीओसी) और साथ ही प्रोटोटाईप चरण को मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद, नई दिल्ली की इंस्टिट्यूट इनोवेशन सेल (आईआईसी) द्वारा आयोजित नवाचार प्रतियोगिता में अनुमोदित किया गया । यह पांचों छात्र स्वंय मूलतः ग्रामीण पृष्ठभूमि से सम्बन्धित है तथा विभिन्न सरकारी जन कल्याण योजनाओं एवं नीतियों के क्रियान्वयन करने के सम्बन्ध में मान्य एंव पूरी जानकारी की कमी का अनुभव किया है । टीम का नेतृत्व कर रहे कैलाश चौधरी ने बताया कि इन्टरनेट कनेक्टिविटी और स्मार्ट फोन की गांवों तक बढ़ती पहुंच के कारण इस मंच को ग्रामीण जन तक पहुंचाने में संभव बनाया । तकनीकी प्रमुख उदय भास्कर एवं आशुतोष भूषण ने बताया कि मच का इंटरफेस उपयोग करने के लिए बहुत आसान है तथा विभिन्न सरकारी योजनाओं एवं नीतियों को जानकारी क्षेत्रीय भाषाओं में वीडियो प्रस्तुतिकरण के साथ उपलब्ध रहेगी । डाटा एवं अनुसंधान प्रमुख अंकुर शेलवाल और अभिषेक कौशिक ने विभिन्न सर्वेक्षणों के आधार पर बताया कि अधिकांश ग्रामीणों को इन जन कल्याणकारी योजनाओं एवं नीतियों के बारे में बहुत कम जानकारी होती है, इसलिए उन्हे अधिक जानकारी के लिए तहसील स्तर पर जाना पड़ता है । ईसीबी के इलेक्ट्रिकल विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. विकास शर्मा ने स्टार्टअप की सराहना की और टीम को इस उपलब्धि के लिए बधाई दी । ईसीबी के स्टार्टअप सेल के समन्वयक पुनम शर्मा और विनोद यादव ने स्टार्टअप के विकास और नामांकन में टीम की मदद की।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply