ईसीबी: अब बन सकेंगे अधिक दक्षता वाले सोलर पैनल, मिलेगी अधिक बिजली

0
(0)

ईसीबी ने वर्ल्ड बैंक से मिले रिसर्च प्रोजेक्ट को किया सफलतापूर्वक पूर्ण

बीकानेर। इंजीनियरिंग कॉलेज बीकानेर (ईसीबी) के मैकेनिकल विभाग को वर्ल्ड बैंक के टेक्वीप -3 कार्यक्रम के अंतर्गत सोलर ऊर्जा के क्षेत्र में NPIU द्वारा आवंटित प्रोजेक्ट “बिल्डिग इंटीग्रेटेड फोटोवोल्टाइक थर्मल सिस्टम फॉर डोमेस्टिक एंड इंडस्ट्रियल ऍप्लिकेशन्स”, के सेट उप का रूफ टॉप पर इंस्टालेशन किया गया। यह राजस्थान में सोलर पीवीटी तकनीक पर आधारित अपनी तरह का नवीनतम रिसर्च प्रोजेक्ट है जो की ईसीबी में शोध के नए आयाम स्थापित करेगा। इस प्रोजेक्ट में उपयोग में आने वाले तकनीकी उपकरण व उसकी स्थापना का कार्य हायरसन सोलर प्राइवेट लिमिटेड द्वारा किया गया है। इस सिस्टम में तीन तरह के PV मॉड्यूल का उपयोग करते हुए सोलर ऐरे का निर्माण किया गया है व उसके नीचे डक्ट का प्रावधान रखा गया है जिससे की ऐरे से विद्युत ऊर्जा के साथ साथ उसकी ऊष्मा को डक्ट से खींच कर सोलर ड्रायर माध्यम से खाद्य सामग्री को सूखाने के लिए गुज़ारा जा सके या सर्दी के दिनों में कमरों को गर्म रखा जा सके। ज्ञात रहे कि PV मॉड्यूल की दक्षता अधिक तापमान पर बहुत कम हो जाती है जिससे की हमें कम बिजली मिलती है, इसी को सुधारने के लिए यह शोध बहुत कारगर रहेगा। क्योंकि ऊष्मा निष्कासन से PV मॉड्यूल का तापमान कम रहेगा जिससे इनकी दक्षता बढ़ेगी साथ ही उससे मिली ऊष्मा का अन्य कार्यों में उपयोग लिया जा सकेगा। इस प्रोजेक्ट के प्रिंसिपल इन्वेस्टिगेटर डॉ रवि कुमार व विभागाध्यक्ष डॉ चंद्र शेखर रजोरिया हैं जिन्होंने दिन रात मेहनत कर के इस प्रोजेक्ट को वास्तविक रूप दिया है। एनआई टी कुरुक्षेत्र के को-प्रिंसिपल इन्वेस्टिगेटर प्रो. साथंस का भी इस प्रोजेक्ट में सराहनीय व सक्रिय योगदान रहा है। बीकानेर संभाग में सौर ऊर्जा बहुतायत में उपलब्ध है जिसका कुशल उपयोग राजस्थान में अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान देगा। साथ ही शोध के नए मार्ग को प्रशस्त करेगा। मैकेनिकल विभाग की छत पर वेदर मोनीटरिंग स्टेशन भी लगाया गया है जिससे की दिन में सोलर रेडिएशन व चौबीस घंटे वायु, आर्दता व तापमान का डाटा संधारित किया जाएगा जो की आगे के शोध के लिए आवश्यक रहेगा।

प्राचार्य डॉ भामू ने विभागाध्यक्ष व समस्त टीम को शुभकामनाएं देते हुए बताया की महाविद्यालय बीकानेर संभाग की समस्याओं को विद्यार्थियों के शोध द्वारा दूर करने के लिए सदैव प्रयासरत है व इसी क्रम में कई शोधपरक नवाचार किए जा रहे हैं। टेक्युप कोऑर्डिनेटर डॉ ओ. पी. जाखड़ व विभाग की समस्त फैकल्टीज ने समस्त मैकेनिकल विभाग को इस उपलब्धि के लिए बधाई दी। इसके उद्घाटन के दौरान हायरसन सोलर प्राइवेट लिमिटेड के संस्थापक श्री कृष्णा कौशिक ने आगे भी इस प्रकार के प्रोजेक्ट्स व अन्य समाजोपयोगी कार्यों के लिए ईसीबी को संपूर्ण योगदान देने का संकल्प लिया है। इस दौरान डॉ धर्मेंद्र सिंह, डॉ मनोज कुरी. डॉ नवीन शर्मा व डॉ राजेंद्र सिंह शेखावत आदि उपस्थित रहे।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply