बारह भावनाओं से अवचेतन मन की प्रोग्रामिंग कर सही मायने में बनें पाॅजीटिव एवं बेलेंस- प्रेमा नाहटा, अध्यक्ष, तेरापंथ महिला मंडल, काठमांडू

4
(2)

काठमांडू (नेपाल)। अखिल भारतीय तेरापंथ महिला मंडल द्वारा निर्देशित तेरापंथ महिला मंडल काठमांडू द्वारा आयोजित रजत जयंती संपोषण का शुभारंभ मैत्री अनुप्रेक्षा प्रयोग, चार भावना का जूम मीटिंग द्वारा वेबीनार किया गया। प्रेक्षाफाउंडेशन की सह संयोजिका सायरा जैन (कांदिवली, मुंबई) स्पीकर के रूप में साथ थी। सर्वप्रथम नमस्कार महामंत्र से कार्यक्रम की शुरुआत हुई। स्पीकर सायरा जैन का स्वागत एवं परिचय मंत्री संगीता लुनिया ने दिया। अध्यक्षा प्रेमा नाहटा ने बारह भावनाओं को संक्षिप्त में बताते हुए कहा कि बारह भावनाओं के द्वारा अपने अवचेतन मन की प्रोग्रामिंग कर सही मायने में पाॅजीटिव एवं बेलेंस बनें। अपनी दृष्टि को भी सम्यक बनाएं। ललित मरोटी के अनुसार स्पीकर सायरा जैन ने बताया कि मैत्री अनुप्रेक्षा प्रेक्षा ध्यान का एक ऐसा प्रयोग है जिसके द्वारा आप अपने अंदर आत्मौपम्य की भावना का विकास कर सकते हैं। मैत्री अनुप्रेक्षा प्रयोग में आप अपने अवचेतन मन की ध्वनि, कायोत्सर्ग चैतन्य केंद्र के प्रेक्षा से जागृत करते हैं और अनुचिंतन देते हुए अपने भीतर मैत्री भावना का विकास करते हैं साथ ही मैत्री भावना के सुंदर प्रयोग करवाए गए एवं बहनों की जिज्ञासाओं का समाधान भी किया
रजत जयंती संपोषण पर संयोजिका माधुरी सेठिया ने विचार व्यक्त किए एवं धन्यवाद आभार ज्ञापन किया।

फेसबुक पेज पर लाइव टेलीकास्ट

फेसबुक पेज तेरापंथ महिला मंडल काठमांडू पर पूरा कार्यक्रम लाइव टेलीकास्ट किया गया। इस जूम मीटिंग को हाॅस्ट प्रियंका पारख ने किया। कार्यक्रम की समस्त समाज ने तहे दिल से प्रशंसा की।

img 20200814 wa0007842284321662641780

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 4 / 5. Vote count: 2

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply