वेबीनार के आयोजन से विद्यार्थी की रचनात्मकता एवं सृजनशीलता को बढ़ावा मिलता है : एचडी चारण, कुलपति

5
(1)

बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय के यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी दुवारा कर्मवीर अनुभव श्रंखला,जॉय ऑफ़ गिविंग एवं कैरियर गाईडेंस एक्सपर्ट टॉक वेबिनार अयोजित

बीकानेर। बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय एवं यूनिवर्सिट कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी बीकानेर के सोशल रेस्पॉन्ससिबिलिटी सेल द्वारा शुक्रवार को कर्मवीर अनुभव श्रंखला,जॉय ऑफ़ गिविंग एवं कैरियर गाईडेंस एक्सपर्ट टॉक वेबिनार आयोजित किया गया। मुख्य अतिथि एवं मुख्य वक्ता सीएलसी कोचिंग सेंटर सीकर के निदेशक एवं श्रवण चौधरी ने जॉय ऑफ़ गिविंग वेबिनार का शुभारंभ करते हुए कहा की सफलता के लिए अपना मार्ग स्वयं तय करना होगा । अपने सपनों को दूसरों की नकल कर ना चुने। पवित्र भाव से अपने सपने को पूरा करने के मार्ग पर चले
सपना पूरा करने के लिए एक जूनून होना आवश्यक है ताकत हम शब्द में है, मैं में ने नहीं। समाज का उत्थान ही शिक्षा का मुख्य उद्देश्य है। जॉय ऑफ गिविंग का अनुभव करे। हमने सामाज से जो लिया उतना समाज को भी दे।सफलता के लिए इंटेलिजेंस मात्रा एक भाग है सब कुछ नहीं है। एक बीज को मिट्टी में बोकर हजारों को अनाज दिया सकता है। यदि वहीं बीज स्वयं ग्रहण कर लिया जाए तो हजारों को अनाज नहीं मिल पाएगा।

वही दूसरी प्रबंधोत्सव के पांच दिवसीय करियर गाइडेंस पर एक्सपर्ट टॉक कार्यक्रम का आरम्भ डॉ रूमा भदौरिया ने की। मुख्य अतिथि एवं मुख्य वक्ता चंद्रशेखर श्रीमाली नेशनल कैरियर काउंसलर ने बच्चो का मार्गदर्शन करते हुए कहा की सब्जेक्ट कोई भी हो वह आपकी सफलता के मायने नहीं बदल सकता। उन्होंने कहा की एग्री बिज़नेस मैनेजमेंट कोर्स का दायरा बहुत बड़ा है। भारत एक एग्री बेस्ड देश है। उन्होंने कहा की कोविड के समय अपने आप को हिम्मत में रखे एवं डिप्रेशन में न आये। डॉक्टर सिंह ने कार्यक्रम के विषय में बताया एवं रूपरेखा दी। प्रो. एच डी चारण , कुलपति, बीकानेर तकनिकी विश्वविद्यालय ने बच्चों का प्रोत्साहन बढ़ाया एवं कमिटमेंट और वैल्यूज की तरफ ध्यान दिलाया। कार्यक्रम में धन्यवाद् ज्ञापन डॉक्टर ममता शर्मा पारीक ने किया । डॉ हेम आहूजा भी मौजूद थी।

ज्ञातव्य है कि बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय के यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग द्वारा लॉक डाऊन के दौरान वेबिनार के माध्यम से विभिन्न रचनात्मक गतिविधियों का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों द्वारा विद्यार्थियों को निशुल्क परामर्श प्रदान किया जा रहा है साथ ही विभिन्न महाविद्यालयों के विद्यार्थी, शिक्षकगण एवं जागरूक शिक्षाविद् आयोजित वेबिनार में प्रतिभागिता निभा रहे हैं। लॉक डाउन के दौरान विद्यार्थियों को शिक्षा की मुख्यधारा से जुड़े रखने का एक अभिनव प्रयास बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय ने किया है।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 5 / 5. Vote count: 1

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply