उत्कर्ष और पैपा ने अब टीचर्स के लिए घोषित की ऑनलाइन लघु कथा प्रतियोगिता

0
(0)

बीकानेर। ‘ उत्कर्ष ‘ सामाजिक सांस्कृतिक शैक्षणिक संस्थान द्वारा प्राईवेट एज्यूकेशनल इंस्टीट्यूट्स प्रोसपैरिटी एलायंस (पैपा) के संयुक्त तत्वावधान में लॉक डाऊन के दौरान शिक्षकों के लिए विशेष प्रयास के रूप में ऑनलाइन लघु कथा प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है। ज्ञात रहे कि पिछले सप्ताह ही इन दोनों ही संस्थाओं ने स्कूली बच्चों के लिए अॉनलाईन बाल कहानी प्रतियोगिता शुरू की है। इन आयामों के संयोजक गिरिराज खैरीवाल ने बताया कि इन दोनों प्रतियोगिताओं की खासियत यह रहेगी कि प्राप्त सभी लघु कथाओं और बाल कथाओं में से प्रकाशन योग्य सभी का प्रकाशन लघु कथा संग्रह और बाल कहानी संग्रह के रूप में किया जाएगा। साथ ही प्रथम पांच लघु कथाओं तथा प्रथम दस बाल कहानियों के रचनाकारों को आकर्षक पुरस्कारों से सम्मानित भी किया जाएगा। प्रत्येक प्रतियोगी को कथा संग्रह की एक प्रति निशुल्क दी जाएगी।  खैरीवाल ने लघु कथा प्रतियोगिता के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि बीकानेर के किसी भी स्कूल के टीचर्स इस लघु कथा प्रतियोगिता में शामिल हो सकते हैं और किसी भी विषय में हिंदी भाषा में अधिकतम 200 शब्दों में अपनी स्वरचित अप्रकाशित लघु कथा ईमेल [email protected] पर 18 अप्रैल तक भेज सकते हैं। खैरीवाल ने बताया कि “ऑनलाइन बाल कहानी प्रतियोगिता”  की अंतिम तारीख भी 18 अप्रैल तक बढ़ा दी गई है। बीकानेर जिले के सभी स्कूलों के 16 वर्ष तक के स्टूडेंट्स लगभग 300 शब्दों में अपनी स्वरचित कहानी ईमेल आईडी [email protected] पर भेज सकते हैं।ये दोोनों प्रतियोगितााएं पूर्णतः निशुल्क हैैं। इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए मो. नं 9875018980 या 7976103214 पर सुबह 11 से सायं 6 बजे तक कॉल करके विस्तृत जानकारी ली जा सकती है। खैरीवाल ने बीकानेर के सभी स्कूलों के संचालकों के साथ साथ बीकानेर के सभी बुद्धिजीवी वर्ग से अपील की है कि सृजनात्मकता के इस अभिनव प्रयास में जिले के अधिक से अधिक बच्चों और शिक्षकों को उनकी मौलिक कहानी प्रेषित करने के लिए प्रेरित कर इस नवाचार को सार्थक बनाने में महती सहयोग करें।  

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply