Picsart 22 04 06 07 12 43 936

सुनो सरकार, गौ ग्रास के बढ़े भाव संकट में राष्ट्र माता गाय

0
(0)

बीकानेर । जयपुर के चांदपोल स्थित राजस्थान की गौशालाओं के प्रतिनिधि संगठन गौ ग्राम सेवा संघ की बीकानेर शाखा ने आर्थिक तंगी से जूझ रही गौशालाओं को जनवरी फरवरी-मार्च के अनुदान का अग्रिम भुगतान करने के लिए कल कलक्ट्रेट में गुहार लगाई।
सूरजमालसिंह नीमराना ने बताया कि गौ ग्राम सेवा संघ राजस्थान के राज्य व्यापी आह्वान पर, बीकानेर में भी, वर्तमान में चारे के भाव आसमान छू रहे हैं। राजस्थान की समस्त गौशालाएं आर्थिक तंगी से जूझ रही है। इसलिए 5 अप्रैल को राजस्थान के समस्त जिला कलेक्टरों के माध्यम से मुख्यमंत्री व गोपालन मंत्री को ज्ञापन प्रेषित किया गया। इस महती ज्ञापन में जनवरी-फरवरी मार्च-2022 माह के अनुदान का अग्रिम भुगतान करने व 9 माह का अनुदान की घोषणा पूर्ण करने और वर्तमान में मिल रहे अनुदान की राशि को 20:40 के स्थान पर 35:70 करने, बीकानेर जिले में स्थान- स्थान पर हो रहे चारे के स्टोर को तुरंत प्रभाव से खत्म करके उस चारे को गौशालाओं और गोपालको वितरित करने के साथ ही चारे के स्टॉक पर पूर्ण रोक लगाने का आग्रह किया गया।

गो ग्राम सेवा संघ के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य महेंद्र सिंह लखासर ने सभी गौशाला संचालक, संगठन के अध्यक्ष, मंत्री आदि से अधिक से अधिक संख्या में सरकार को जगाने की चेष्टा में भागीदार बनने का आह्वान किया है।
इस अवसर पर बीकानेर गौशाला संघ के महामंत्री निरंजन सोनी ने कहा कि सरकार अति शीघ्र गौशालाओं को जनवरी फरवरी-मार्च के अनुदान की राशि का अग्रिम भुगतान कर गोशालाओ को राहत पहुंचाने का प्रयास करे नहीं तो विवश होकर हमें आंदोलन का रास्ता पकड़ना पड़ेगा।

ज्ञापन देने में भीवराज डूडी, शंकर लाल पारीक खाजूवाला, शंकर लाल पारीक अक्कासर,रामेश्वर जी गोदारा खियरा गौशाला, रमेश कुमार बंसल, जसराम जी खालिया, अगरसिंह कोटासर, जुगल किशोर कवलीसर, हनुमाना राम झाडेली, विक्रम सिंह सत्तासर, सत्यनारायण स्वामी,उदय सिंह जैसलसर, हजारी जी मंडा जांगलु गौशाला,पार्षद अनूप गहलोत, प्रेम सिंह घुमांदा, रघुनाथ सिंह शेखावत, पुरूषोत्तम गहलोत, चतरदान चारण, भैराराम जी रोझ, सीताराम शर्मा, मुकेश बिश्नोई मुकाम, सरवन सिंह अम्बासर, शीशपालगिरी, मालाराम धीरदेसरर चोटियान, नारायण सिंह धीरदेसर पुरोहितान, देवी सिंह भोजास, छतरगढ़, खाजूवाला, कोलायत, डूंगरगढ़, नोखा, बीकानेर तहसील की गौशाला संचालकों ने भाग लिया।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply