IMG 20220127 WA0024

संस्कृति की संवाहक ‘रमक झमक’ का जिला प्रशासन ने किया सम्मान

0
(0)

– यह सम्मान सभी परम्परा व संस्कृति प्रेमियों को समर्पित – प्रहलाद ओझा
बीकानेर । समाज बंधुओं व शहरवासियों ने आज गौरव महसूस किया जब 73 वें गणतंत्र दिवस समारोह में बीकानेर जिला प्रशासन द्वारा रमक झमक का अभिनन्दन किया गया। यह सम्मान रमक झमक अध्यक्ष प्रहलाद ओझा ‘भैरु’ को कला संस्कृति मंत्री डॉ बी डी कल्ला, सम्भागीय आयुक्त नीरज के पवन, जिला कलक्टर भगवतीप्रशाद कलाल आदि ने गरिमामय समारोह में प्रदान किया।
रमक झमक के संस्थापक अध्यक्ष प्रहलाद ओझा ‘भैरु’ कहते है कि उनके पिताजी स्व.छोटुलाल ओझा तुम्बड़ी वाले बाबा द्वारा संस्कृति व सामाज के कार्य छोटे रूप में शुरू किए थे, रमक झमक के माध्यम से उसको ही आगे बढ़ा रहे है। गणतंत्र दिवस पर शहर की एक मात्र संस्था को चुना गया इसमें सबकी शुभ भावनाए साथ रही। उन्होंने कहा कि रमक झमक का यह सम्मान संस्था से प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े लोगों का व रमक झमक के शुभचिंतकों के साथ साथ हर उस व्यक्ति को समर्पित है जो अपनी मौलिक परम्परा संस्कृति और उसके उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए आधुनिक समय के साथ आगे बढ़ रहे हैं।

समाज और सस्कृति का सम्मान है- राजस्थानी गीतकार शिवराज छंगाणी

रमक झमक को सम्मान मिलने पर राजस्थानी भाषा साहित्य सस्कृति अकादमी के पूर्व उपाध्यक्ष वरिष्ठ गीतकार शिवराज छंगाणी ने प्रसन्नता जाहिर की है। छंगाणी ने कहा है कि पाश्चात्य संस्कृति के दुष्प्रभाव से युवाओं को बचाने के लिये रमक झमक जैसी संस्था हमेशा सतत प्रयासरत रही है। रमक झमक के प्रहलाद ओझा ‘भैरु’ का सम्मान सम्पूर्ण समाज व संस्कृतिकर्मियों का सम्मान करना है।

सावा संस्कृति को अक्षुण्ण बनाने के प्रयास
रमक झमक परिवार सेवा संस्कार और सस्कृति के लिये शहर परोकोटे मे लगभग 40 वर्षों से समाज और शहर की पौराणिक संस्कृति व परम्पराओं के सरंक्षण हेतु निरन्तर कार्य कर रही है।
विशेष रूप से पुष्करणा सावा जैसी पौराणिक संस्कृति को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए तो सतत प्रयासरत रहती है। सावा संस्कृति में युवाओं की रुचि पैदा करने के लिए निरन्तर नवाचार के साथ युवाओं को प्रोत्साहन हेतु आयोजन व प्रचार प्रसार करती है। करीब 360 वर्ष पुरानी सामूहिक सावा संस्कृति को एक बार पुनः विश्व पटल लाने का श्रेय रमक झमक को है।अंतरराष्ट्रीय कैमल फेस्टिवल व हेरिटेज वॉक में देश विदेश के पर्यटक रमक झमक की सावा (सामूहिक विवाह) बारात के पौराणिक स्वरूप को देखकर प्रभावित हो चुके है और देश विदेश की मीडिया ने सावा बारात के पौराणिक स्वरूप को दिखाया जिससे बीकानेर शहर की सांस्कृतिक विरासत से लोग घर बैठे भी रूबरू हो चुके है और सराह चुके हैं।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply