IMG 20211004 WA0027

हमारा बीज हमारे संस्थान का ब्रांड एम्बेसेडर है और देशभर में है मांग – प्रो. सिंह, कुलपति

0
(0)

एस.के.आर.ए. यू: – सीड प्रोडक्शन रबि 2021 समीक्षा बैठक

बीकानेर, 04 अक्टूबर । राष्ट्रीय बीज परियोजना के तहत रबि सीड प्रोडक्शन 2021-22 समीक्षा बैठक सोमवार को स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. आर. पी. सिंह की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बैठक के दौरान रबि 2021-22 के मौसम के लिए बीज-उत्पादन एवं वर्ष 2020-21 में उत्पादित अलग अलग श्रेणी के बीजों जैसे की प्रजनक, आधार, सत्यापित व सत्य चिन्हित बीज की समीक्षा की गई और रबि 2021-22 में पैदा किए जाने वाले अलग-अलग श्रेणी के बीजों का लक्ष्य आवंटन किया गया। विश्वविद्यालय के कार्य क्षेत्र में 15 फॉर्म आते हैं इन समस्त फार्म-एरिया में बीज उत्पादन बढ़े और बीज अच्छी ग्रेडिंग व पैकेजिंग के साथ किसानों को उपलब्ध कराये जाने पर चर्चा हुई।
कुलपति प्रो सिंह ने कहा की बीज किसी भी संस्थान के लिए राजदूत का काम करता है, बीज उस संस्थान की पहचान है, अच्छी पैदावार का श्रेय ज़्यादातर बीज को ही मिलता है। बीज का उत्पादन में 20% से 45% तक योगदान रहता है अतः गुणवत्ता युक्त बीज की हमेशा मांग रही है। नई किस्मों का भी बीज उत्पादन किया जाए ताकि नई किस्मों के बीज भी किसानों को उपलब्ध हो सके। 2020-21 में 2975.81 क्विंटल बीज उत्पादन किया गया और रबि 2021-22 के लिए 20% बढ़ाकर लक्ष्य रखा गया । विश्वविद्यालय के सीड प्रोडक्सन यूनिट द्वारा उत्पादित बीजों की मांग पूरे देश में रहती है और हमें इसी के अनुरूप कार्य करना है। वर्तमान में हमारे संस्थान को प्राप्त 1800 क्विंटल के इंडेंट को एक अवसर के रूप में लेना होगा और इसी तर्ज पर उत्पादन बढ़ाना होगा।

बैठक में बीज उत्पादन लक्ष्य प्राप्ति हेतु मॉनिटरिंग, मैनेजमेंट व एक्सपर्ट्स की सलाह से कई समस्याओं का हल किया जा सकता है और वांछित लक्ष्य प्राप्त किए जा सकते हैं। बीज उत्पादन के दौरान मिश्रण से बचने के लिए एक फार्म पर सिंगल वैरायटी पर चर्चा हुई इसी के साथ मध्यावधि बैठक का भी सुझाव रखा गया बीज उत्पादन के साथ राजस्व बढ़ता है और राजस्व के बढ़ने पर विश्वविद्यालय की रैंकिंग में भी सुधार होता है अतः यह आवश्यक है कि किस तरह से गुणवत्तायुक्त बीजों का उत्पादन बढ़ाया जाए आज भी किसानों को वैज्ञानिकों द्वारा दिए गए बीज पर पूरा विश्वास है ।


समीक्षा बैठक के संयोजक व अतिरिक्त निदेशक (बीज) डॉक्टर एन.के. शर्मा ने बताया की बैठक में डॉ. पी एस शेखावत निदेशक अनुसंधान, डॉ आर पी एस चौहान, डॉ एस आर यादव, डॉ विजय प्रकाश, डॉ. ए के शर्मा, डॉ पी सी गुप्ता और विश्वविद्यालय के सातों कृषि विज्ञान एवं दो कृषि अनुसंधान केन्द्रों के प्रभारियों व वैज्ञानिकों ने भाग लिया।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply