IMG 20210130 WA0015

महात्मा गांधी की अहिंसा की राह में बहुत ताकत है-मदन गोपाल मेघवाल

0
(0)

मौन की ताकत से बड़े से बड़ा युद्ध जीता जा सकता है-शिवशंकर हर्ष

बीकानेर। अखिल भारतीय कांग्रेस सेवादल के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालजी देसाई व राजस्थान के अध्यक्ष हेमसिंह शेखावत के निर्देशानुसार आज राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर सेवादल के सदस्यों ने बाहों पर हरी पट्टी बांध व मौन रखकर किसानों के आंदोलन को समर्थन दिया। इस उपलक्ष्य में आए बीकानेर सांसद प्रत्याशी मदन गोपाल मेघवाल ने कहा कि महात्मा गांधी की अहिंसा की राह में बहुत ताकत है एवं इसकी ताकत से बड़े से बड़ा तानाशाह मैदान छोडऩे को मजबूर हो जाता है। इसी राह पर चलकर ही जनता अपने अधिकार प्राप्त कर सकती है।

बीकानेर शहर कांग्रेस अध्यक्ष यशपाल गहलोत ने दोहराया कि केन्द्र सरकार जिस तरह से अडानी-अंबानी व पूंजीपतियों को फायदा पहुंचाने के लिए जो कार्य कर रही है वो घोर निदंनीय है। केन्द्र सरकार कृषि कानून जो जबरन किसानों पर थोपना चाहती है। इससे मण्डीयां, छोटे व्यापारी व किसानों के लिए अहितकर है। सरकार तुरन्त इन कानूनों को वापस ले। शहर सेवादल अध्यक्ष शिवशंकर हर्ष ने कहा कि मौन की ताकत से बड़े से बड़ा युद्ध जीता जा सकता है। जिस तरह से महात्मा गांधी ने अहिंसा, मौन व उपवास की ताकत से अंग्रेजों को भारत से खदेड़ दिया था, उसी तरह एक बार फिर हम केन्द्र सरकार को खदेड़ऩे की ओर अग्रसर है।

कांग्रेस सेवादल के वरिष्ठ नेता नृसिंह दास व्यास ने कहा कि इस एक दिन के सांकेतिक उपवास व मौनव्रत से किसानों को बल मिलेगा व वे अपने शांतिपूर्ण चल रहे आंदोलन में अवश्य सफलता प्राप्त करेंगे। महिला कांग्रेस की नेता सुषमा बारूपाल ने अपने विचार रखते हुए कहा कि गांधीजी का जीवन दर्शन व राह कमजोर को भी बल प्रदान कर देती है। मनुष्य जब अभिव्यक्त करना बंद करके मौन धारण कर ले तो बड़ी से बड़ी ताकत उसके सामने नतमस्तक हो जाती है और यही कार्य उसको जीत की ओर अग्रसर करती है। सेवादल के एक दिन के सांकेतिक उपवास व मौनव्रत के आरंभ होने से पहले सभी सदस्यों ने गांंधीजी की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित कर महात्मा गांधी को उनके शहीद दिवस पर स्मरण किया।

कार्यक्रम में कांग्रेस सेवादल के साथ-साथ कांग्रेस के विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों ने इस कार्यक्रम में भागीदारी निभाई व सेवादल की प्रशंसा की। कार्यक्रम में नित्यानन्द पारीक, संजय आचार्य, श्याम नारायण रंगा, मनोज व्यास, नटवर जोशी, धनसुख आचार्य, श्रवण रामावत, लालचन्द गहलोत, शेख नजाकत अली, गजेन्द्र सांखला, राजपाल पूनिया, परमाराम सुथार, एजाज पठान, शांतिलाल सेठिया, सुभाष स्वामी, बिसनाराम सियाग, जाकिर पठान, देवानन्द चांवरिया, समृद्धिराज, रविकांत वालमिकी, अनिल शर्मा, शिवम, सुभाष जोशी, राहुल जादूसंगत, मोतीलाल मेघवाल, ताराचंद जयपाल, महेन्द्र देवड़ा, जयकिशन गहलोत के साथ-साथ महिला सदस्याएं हबीबा चौधरी, संतोष प्रजापत, मुमताज शेख, उमा सुथार, मंजू गोस्वामी, राज भटनागर सहित तमाम लोगों ने अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply