डूंगर काॅलेज वेबिनार में एम्स के डाॅ. शर्मा ने कम क्षमता के विकिरणों द्वारा कोविड-19 के उपचार के बारे में दी जानकारी

0
(0)

– डूंगर काॅलेज में विकिरण विषयक अन्तर्राष्ट्रीय वेबिनार सम्पन्न

बीकानेर 12 अक्टुबर। सम्भाग के सबसे बड़े राजकीय डूंगर महाविद्यालय में सोमवार को विकिरण विषयक अन्तर्राष्ट्रीय वेबिनार सम्पन्न हुआ। प्राचार्य डाॅ. शिशिर शर्मा ने बताया कि मुख्य अतिथि प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी ने अपने विशेषाधिकारी डाॅ. जयभारत सिंह के माध्यम से भेजे संदेश में वर्तमान समय में विकिरणों द्वारा कोरोना का उपचार विषयक वेबिनार को समाज के लिये अति महत्वपूर्ण बताया। भाटी ने बीकानेर की आचार्य तुलसी कैन्सर अस्पताल की जिक्र करते हुए कहा कि रेडियोथैरेपी की सुविधा बीकानेर में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर की है एवं डूंगर काॅलेज में चल रहे विकिरण जैविकी के शोध कार्य निश्चित रूप से डूंगर काॅलेज को गौरान्वित करते हैं।
रक्षा अनुसंधान संस्थान, हल्दवानी की निदेशक डाॅ. मधुबाला ने वेबिनार की उपादेयता पर प्रकाश डालते हुए सभी से कोरोना संबंधी सरकारी एडवायजरी की पालना की महती आवश्यकता पर बल दिया। विशिष्ट अतिथि सहायक निदेशक डाॅ. राकेश हर्ष ने अपने उद्बोधन में विकिरण के उपचार के साथ साथ औषधिय पादपों के उपयोग की आवश्यकता बताई।
संयोजक डाॅ. राजेन्द्र पुरोहित ने बताया कि इस वेबिनार में एम्स नई दिल्ली के डाॅ. डी.एन.शर्मा ने कम क्षमता के विकिरणों द्वारा कोविड-19 के उपचार के बारे में विस्तृत जानकारी प्रस्तुत की। डाॅ. शर्मा ने बताया कि एन्टीबायोटिक के विकास से पूर्व भी उन्नीसवीं शताब्दी के प्रारम्भ में विकिरणों द्वारा बीमारियों का इलाज किया जाता था। मायो केन्सर सेन्टर फ्लोरिडा, अमेरिका के डाॅ. सुनील कृष्णनन ने भी वर्तमान कोरोना काल में विकिरणों के उपचार की विभिन्न विधियों के बारे में बताया। एसएमएस अस्पताल, जयपुर के डाॅ. अरूण चोगले ने रेडियोथैरेपी के इतिहास का जिक्र करते हुए कहा यदि केन्सर का निदान समय पर हो जाए तो उसका उपचार सम्भव हो सकता है।
विभागाध्यक्ष डाॅ. मीरा श्रीवास्तव ने कहा कि 12 से 14 अक्टूबर 2020 को होने वाले विकिरण जैविकी पर अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन को कोरोना की वजह से स्थगित कर दिया था। इसके कारण ही सोमवार 12 अक्टूबर को विकिरण जैविकी का सफलतम आयोजन किया गया है।
आयोजन सचिव डाॅ. अरूणा चक्रवर्ती ने बताया कि वेबिनार में शिक्षाविदों, वैज्ञानिकों सहित लगभग 700 प्रतिभागियों ने सहभागिता की जो विशेष उल्लेखनीय है। डाॅ. चक्रवर्ती ने कहा कि वेबिनार में व्याख्यान देने वाले वैज्ञानिकों ने जो जानकारी प्रस्तुत की है वह विद्यार्थियों के लिये बेहद उपयोगी साबित होगी। उन्होंने डाॅ. नरेन्द्र भोजक, डाॅ. हेमेन्द्र भण्डारी एवं डाॅ.एस.के. वर्मा के योगदान की सराहना की। वेबिनार में डाॅ. रविन्द्र मंगल, डाॅ. जी.पी.सिंह, डाॅ. प्रताप सिंह सहित महाविद्यालय के बड़ी संख्या में संकाय सदस्यों एवं शोधार्थियों की भूमिका रही।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply