Screenshot 20220717 154843 Gmail

अन्तरराष्ट्रीय वैश्य सम्मेलन, वक्ता बोले -वैश्य एकता आज की जरूरत

0
(0)

एकजुटता दिखाने का किया आह्वान, प्रदेश पदाधिकारी हुए शामिल

बीकानेर। अन्तरराष्ट्रीय वैश्य सम्मेलन शनिवार रात नोखा रोड स्थित हंसा गेस्ट हाउस में आयोजित किया गया। इसमें पदाधिकारियों ने एकजुटता का आह्वान किया। कार्यक्रम में बतौर अतिथि शामिल हुए पूर्व संसदीय सचिव और विधानसभा चुनावों में बीकानेर पूर्व विधानसभा से कांग्रेस के प्रत्याशी रहे कन्हैयालाल झंवर ने कहा कि आज आवश्यकता है कि वैश्य समाज को अपनी ताकत दिखाने की। तभी राजनीति में भागीदारी बन पाएगी। उन्होंने कहा कि वोट के पीछे पार्टियां चलती हैं। ऐसे में सक्षम समाज होते हुए भी हम आज राजनीति में पिछड़े क्यों हैं? इसके लिए हम सभी को एकजुट होकर मजबूती दिखानी होगी। उन्होंने कहा कि आज विधानसभा हो या लोकसभा दोनों में ही वैश्य समाज के चुनिंदा प्रतिनिधि ही हैं। झंवर ने कहा कि राजस्थान में वैश्य समाज को जनगणना करानी चाहिए, ताकि राजनैतिक पार्टियों को अपनी ताकत बता सके।

कार्यक्रम में प्रदेश प्रभारी ध्रुव दास अग्रवाल ने कहा कि आज वैश्य समाज को अपनी ताकत, बल का भान नहीं है। तभी तो राजनीति में पिछड़े हैं, जबकि दान, रोजगार और व्यापार में आगे हैं। इसके बाद भी उचित प्रतिनिधि राजनीति में नहीं मिला, इसके लिए जरूरी है, एकता, संगठन में मजबूती और अपने बल को पहचानने की। संगठन स्तर पर अलग-अलग प्रदेशों, जिलों में जाकर वैश्य समाज को जागरुक कर रहे हैं, यह काम आगे भी जारी रहेगा। उन्होंने उड़ीसा का पूर्व अनुभव साझा करते हुए बताया कि तात्कालीन सीएम बीजू पटनायक सरकार के समय का किस्सा सुनाया, जिसमें वैश्य समाज ने अपनी एकता दिखाई, जिसका परिणाम भी सकारात्मक रहा।

प्रदेश महामंत्री गोपाल दास गुप्ता ने कहा कि जो पुरुषार्थ करता है, लक्ष्मी उनका वरण करती है। आज वैश्य समाज में पालनकर्ता, समाज सेवाकर्ता सरीखे गुण है, लक्ष्मी भी है। इसके बावजूद राजनीति में प्रतिनिधित्व में पिछड़े हैं। यह आज जरूरी हो गया है कि इस समाज का प्रतिनिधि विधानसभा, लोकसभा में जाए। उन्होंने कहा कि वैश्य समाज का वृहद इतिहास रहा है। उन्होंने कहा कि वोट की कीमत भी समझनी होगी, इसके लिए सभी को एकजुटता के साथ जागरुक का कार्य करना होगा। कार्यक्रम में श्रीगंगानगर से आए संभाग प्रभारी राधेश्याम शेरेवाला ने अपने औजस्वी उद्बोधन से सभी में नई ऊर्जा भर दी। शेरेवाला ने कहा कि आज वैश्य समाजिक बंधु जहां-तहां रह रहे हैं, वहां पहुंचकर उन्हें जागरुक करना बहुत जरूरी हो गया है। यह आज की आवश्यकता है, जब तक अपनी आवाज राजनैतिक दलों तक नहीं पहुंचेगी। अपनी ताकत नहीं दिखेगी। कार्यक्रम में प्रदेश उपाध्यक्ष महावीर रांका ने कहा कि वैश्य समाज किसी भी दृष्टि से पीछे नहीं है, बस जरुरत है, तो एकजुटता की।

प्रदेश मंत्री मोहन सुराणा ने कहा कि आज वो किसी एक दल की बात नहीं करते बल्कि वैश्य समाज की ताकत को दिखाने की बात कर रहे हैं। सुराणा ने कहा कि जब कभी दान, सामाजिक सरोकार की बात आती है, तो वैश्य समाज एक साथ दयाभाव से खड़ा नजर आता है। फिर कोरोना हो या ओर कोई विपदा, लेकिन विडम्बना है कि वोटों में अभी भी पीछे हैं। जब तक वोट की कीमत नहीं समझेंगे, प्रतिनिधित्व कैसे मिलेगा। उन्होंने कहा कि कई मौके ऐसे आए हैं जब वैश्य समाज ने आर्थिक मदद के रूप में आगे आया है, लेकिन आज राजनीति सबसे सशक्त माध्यम है, लोगों तक अपनी बात रखने का, सेवा करने का, मगर इसमें वैश्य समाज पीछे हैं। इसके लिए हमसभी को एकजुट होना पड़ेगा।

कार्यक्रम में जिलाध्यक्ष जुगल राठी वर्चुअल जुड़े। उन्होंने सम्मेलन की सराहना करते हुए कहा कि विकास के लिए अहम है कि समाज संगठित होकर कार्य करें। जिला महामंत्री विजय बाफना ने कार्यक्रम के उद्देश्य पर प्रकाश डाला। महिला विंग की धनलक्ष्मी जैन ने कहा कि दृढ़ संकल्प से दुविधा दूर होती है। उन्होंने कहा कि धर्म की रक्षा सर्वोपरि है, मातृ शक्ति बच्चों के सर्वागीण विकास की बात कही। साथ ही युवाओं से अधिकाधिक भागीदारी निभाने की बात कही। कार्यक्रम में नोखा नगर पालिका अध्यक्ष नारायण झंवर,, यूथ विंग जिला इकाई के कृष्णा सेठिया, महामंत्री किशन अग्रवाल, युवा प्रदेश उपाध्यक्ष लोकेश करनाणी, व्यवसायी हंसराज डागा, विनोद बाफना, पद्मिनी अग्रवाल डॉक्टर प्रवीण जैन, जेठमल नहाटा , मनोज सिंगला, युवा प्रदेश मंत्री अंकुश चौपड़ा, जैन महासभा से मनोज सेठिया नरेंद्र तातेड, नारायण बिहानी, दिनेश महात्मा, सौरभ बागडी ने भी विचार रखे। संचालन किशन लोहिया ने किया।

इनका हुआ सम्मान
कार्यक्रम में पीबीएम के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ.संजय कोचर सहित रोग निदान सेवा संस्था के भतमाल पेडिवाल, देव किशन पेडिवाल सहित विभूतियों का अतिथियों ने शॉल ओढ़ाकर, साफा पहनाकर सम्मान किया।

ये हुए शामिल…
कार्यक्रम में व्यापार मंडल के पूर्व अध्यक्ष सुभाष मित्तल, उद्यमी श्रीराम सिंगी, पूर्व मेयर नारायण चौपड़ा, व्यवसायी ओम प्रकाश करणानी, सोहन लाल बैद, महात्मा जैन महासभा से शिव महात्मा, मनोज बजाज, एडवोकेट महेन्द्र जैन, दिनेश महात्मा, अशोक रांका, लीलाधर राठी, डॉ.प्रदीप जैन, कमल बोथरा, प्रवीन जैन, घनश्याम महात्मा, हिमांशु अभिषेक जैन, देवेश खंडेलवाल, श्रीभगवान अग्रवाल, महेश जैन, चंद्रकला कोठारी, निशा झँवर, रेणु झँवर, उषा महात्मा, अभय बाँठिया महावीर कल्याण केंद्र के संजय कोचर, अशोक रांका, पवन सुराना, सौरभ मालु, निखिल अग्रवाल, अश्लेश अग्रवाल, महेश जैन, मीना लखोटिया, सुरेश गुप्ता, चंद्रकला कोठारी, बबीता बोथरा, गायत्री महात्मा, ज्योति विजयवर्गीय, सरिता सांड, कंचन सांड, भानु आनंद, सरला लोहिया, देवेश खण्डेलवाल सहित बड़ी संख्या में वैश्य समाज के गणमान्य लोग, महिला शक्ति मौजूद रही।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply