Picsart 22 02 10 20 30 14 141

सामूहिक विवाह अनुदान के लिए बीकानेर का शहरी परकोटा स्थाई रूप से एक छत घोषित

0
(0)

*शिक्षा मंत्री डॉ. कल्ला और महिला अधिकारिता मंत्री भूपेश से मिल जताया आभार*

बीकानेर, 10 फरवरी। शिक्षा मंत्री डाॅ.बी.डी.कल्ला के प्रयासों से पुष्करणा सावे के दौरान शहरी परकोटे को स्थाई रूप से एक छत मान लिया गया है। इस पर गुरुवार को परशुराम सेवा समिति के पदाधिकारियों ने शिक्षा मंत्री डॉ. कल्ला और महिला अधिकारिता मंत्री ममता भूपेश से जयपुर में मुलाकात की और दोनों का आभार जताया।

इस दौरान शिक्षा मंत्री डॉ. कल्ला ने कहा कि प्रति दो वर्ष में आयोजित होने वाले पुष्करणा ब्राह्मण समाज के सामूहिक विवाह से पूर्व शहरी परकोटे को एक छत मानने के लिए हर बात अनुमति लेनी पड़ती थी। अब राज्य सरकार द्वारा स्थाई रूप से शहरी परकोटा को एक छत घोषित कर दिया है। इससे हर बार अनुमति की प्रक्रिया अपनानी नहीं पड़ेगी। उन्होंने इसके लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आभार जताया और कहा कि सामूहिक विवाह आयोजनों से दहेज जैसी कुप्रथा भी समाप्त होती है। डॉ. कल्ला ने कहा कि बीकानेर का पुष्करणा सावा पूरे देश में विशिष्ट स्थान रखता है। इस दौरान सभी आवश्यक सुविधाएं सुनिश्चित करने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देशित कर दिया गया है। सावा आयोजन तक इसकी नियमित समीक्षा की जाएगी।

महिला अधिकारिता मंत्री ममता भूपेश ने कहा कि सामूहिक विवाह जैसे आयोजनो से एकता और भाईचारे की भावना जागृत होती है। राज्य सरकार भी सामूहिक विवाह जैसे आयोजनों को प्रोत्साहित करना चाहती है। इसके लिए अनुदान जैसी योजना प्रारंभ की गई है।

परशुराम सेवा समिति के अध्यक्ष नवरतन व्यास ने बताया कि मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह एवं अनुदान योजना के अंतर्गत 18 फरवरी को आयोजित होने वाले सावे में पुष्करणा समाज के साथ अन्य किसी भी जाति के नवदंपति को भी अनुदान का लाभ मिल सकेगा। इसके लिए आवेदन की प्रक्रिया पूर्ण हो चुकी है।
इस दौरान कर्मचारी नेता महेश व्यास, विशंभर व्यास, नथमल व्यास, राजकुमार पुरोहित, हरिओम पुरोहित, मनमोहन कल्ला मौजूद रहे ।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply