IMG 20210524 WA0061

त्रिस्तरीय जन अनुशासन लाॅकडाउन गाइडलाइन की हो शत प्रतिशत अनुपालना

0
(0)

जिला कलक्टर ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से दिए निर्देश
बीकानेर, 24 मई। जिला कलक्टर नमित मेहता ने सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जिले के समस्त उपखण्ड स्तरीय अधिकारियों को त्रिस्तरीय जन अनुशासन लाॅकडाउन की गाइडलाइन की शत-प्रतिशत अनुपालना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।
जिला कलक्टर ने कहा कि सभी अधिकारियों के सतत प्रयासों से जिले में कोरोना संक्रमण की वृद्धि दर पर प्रभावी अंकुश लग रहा है। यह स्थिति बनी रहे, इसके मद्देनजर राज्य सरकार द्वारा जारी नई गाइडलाइन की अनुपालना सख्ती से करवाई जाए। प्रत्येक विवाह का वेरिफिकेशन किया जाए। बेवजह आवागमन पर प्रभावी अंकुश रखा जाए तथा किसी भी स्तर पर अवहेलना पाई जाने की स्थिति में सख्त कार्यवाही हो। उन्होंने कहा कि इंटर डिस्ट्रिक्ट चैक पोस्ट पर भी सख्ती बरकरार रखी जाए। ज्वाइंट एनफोर्समेंट टीमें सतत कार्यवाही करें। कोविड क्वारेंटाइन अलर्ट सिस्टम पर नियमित नजर रखें और पाॅजिटिव मरीज द्वारा होम क्वारेंटाइन की अवहेलना पाई जाने पर सख्त कार्यवाही हो।
जिला कलक्टर ने कहा कि संक्रमण की चेन तोड़ने में डोर टु डोर सर्वे बेहद महत्वपूर्ण है। इसे सतत रूप से संचालित किया जाए तथा प्रत्येक घर तक पहुंचा जाए। संबंधित उपखण्ड अधिकारी, विकास अधिकारी और ब्लाॅक सीएमएचओ इसकी नियमित माॅनिटरिंग करें। जिला कलक्टर ने कहा कि पिछले दो महीनों में कोरोना पाॅजिटिव से नेगेटिव हुए सभी लोगों का ब्लैक फंगस के संदर्भ में डोर टु डोर सर्वे मंगलवार तक अनिवार्य रूप से करना होगा। किसी भी रोगी में कोई लक्षण पाए जाने की स्थिति में उसे तुरंत पीबीएम रैफर करने के निर्देश दिए।
जिला कलक्टर ने कहा कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर को ध्यान रखते हुए सीएचसी स्तर के अस्पतालों का सुदृढ़ीकरण किया जाए। सीएचसी प्रभारी सभी संसाधनों को आकलन कर लें, जिससे आवश्यकता पड़ने पर कम गंभीर मरीजों का इलाज इस स्तर तक हो सके। उन्होंने कहा कि प्रत्येक ब्लाॅक क्षेत्र में पर्याप्त संख्या में रेपिड एंटीजन जांच किटें उपलब्ध करवा दी गई हैं। प्राथमिकता से जिले के दूरस्थ क्षेत्रों के लिए इनका उपयोग हो, जिससे संक्रमित व्यक्ति की समय पर पहचान हो सके। उन्होंने कहा कि आॅक्सीजन की उपलब्धता को लेकर कहीं भी परेशानी नहीं हो। प्रत्येक स्थान पर आॅक्सीजन कंसंट्रेटर की उपलब्धता और आवश्यकता का रेकाॅर्ड रखा जाए। जिला कलक्टर ने कहा कि जिन ब्लाॅक क्षेत्रों में आॅक्सीजन जनरेशन प्लांट बन रहे हैं, वहां उपखण्ड अधिकारी और ब्लाॅक मुख्य चिकित्सा अधिकारी मौका मुआयना करें तथा यह सुनिश्चित करें कि मरीज को आॅक्सीजन सप्लाई तक का समूचा स्ट्रक्चर इस दौरान तैयार हो। इस दौरान अतिरिक्त कलक्टर (प्रशासन) बलदेव राम धोजक, एडीएम सिटी अरुण प्रकाश शर्मा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शैलेन्द्र सिंह इंदौलिया, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ओमप्रकाश, नगर निगम आयुक्त एएच गौरी, प्रशिक्षु आइएएस सिद्धार्थ पलनिचामी, वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी डाॅ. बीएल मीणा, कार्यवाहक सीएमएचओ डाॅ. राजेश गुप्ता आदि मौजूद रहे।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply